Voice of Nigohan

- Advertisement -

मोहनलालगंज- स्काउट से मिलती है देशभक्ति और सेवक बनने की सीख

26

स्काउट से मिलती है देशभक्ति और सेवक बनने की सीख

मोहनलालगंज, लखनऊ ।मोहनलालगंज के पूर्व माध्यमिक विद्यालय गौरा में विभिन्न जगहों के बालक बालिकाओं में निहित गुणों को उभार कर उन्हें स्वावलम्बी व सर्वोत्तम नागरिक बनाने का संकल्प लेने वाले स्काउट गाइड के संस्थापक लार्ड बेडेन पावेल के जन्मदिन को ” विश्व चिंतन दिवस” के रूप में मनाया गया। विद्यालय की शिक्षिका और गाइड कैप्टन रजनी दीक्षित के साथ बच्चों ने लार्ड बेडेन पावेल व लेडी बेडेन पावेल के चित्र पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। इस अवसर पर विद्यालय में “सर्व धर्म प्रार्थना सभा” का आयोजन किया गया , जिसमें विद्यालय के स्काउट बालक व गाइड बालिकाओं के साथ सभी शिक्षक एवं शिक्षिकाओं ने ईश्वर से प्रार्थना की कि सभी धर्मों एवं सम्प्रदायों में आपस में प्रेम , सौहार्द और भाईचारे की भावना विकसित हो। गाइड कैप्टन रजनी दीक्षित ने बताया कि स्काउट – गाइड शिक्षा द्वारा बच्चों को अनुशासित बनाने के साथ-साथ समाज एवं देश की सेवा तथा आकस्मिक घटनाओं में सहयोग की भावना सहज रूप से विकसित हो जाती है। स्काउटिंग क्रियात्मक पक्षों से संदर्भित होने के कारण गतिविधियों के माध्यम से बच्चों में निर्धारित कौशलों का विकास करती है। अनुमान लगाने, चिन्हों तथा संकेतों के माध्यम से निर्दिष्ट स्थान का पता लगाने आदि की कार्य कुशलता सम्बंधी दक्षताओं का विकास होता है। हाइकिंग,कैम्पिंग आदि कौशलों के माध्यम से बच्चों में खोज और सहयोग की भावना विकसित होती है, साथ ही बच्चों में व्यवहारिक दक्षता के ऐसे अनेक कौशलों का विकास होता है जिन्हें सीखकर बच्चे न केवल अपने वरन् दूसरों के लिए भी उपयोगी सिद्ध होते हैं। रजनी दीक्षित ने बताया कि बच्चों में नेतृत्व की भावना और आपस में मिलजुल कर कार्य करने की भावना को विकसित करने के लिए विद्यालय में कैम्पिंग का आयोजन किया गया, बच्चों ने दल बनाकर टेंट लगाए व अपने अपने दल का नाम फूलों के नाम पर जैसे” सूरजमुखी, हरसिंगार, कमल,गुलाब, गुलमोहर आदि रखा। विद्यालय में ” कैम्प फायर” का आयोजन भी किया गया। बच्चों ने आग जला कर उसके चारों ओर श्रृंखला बनाकर ” कैम्प फायर गीत” गाया व सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। गाइड कैप्टन रजनी दीक्षित ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बताया कि स्काउट गाइड होने की भावना बच्चों को शारीरिक रूप से मजबूत, मानसिक रूप से जागरूक तथा नैतिक रूप से विशिष्ट बनाती है। उन्होंने बताया कि यह दिवस पूरी दुनिया में” विश्व चिंतन दिवस” के रूप में मनाया जाता है। रजनी दीक्षित ने बच्चों को स्काउटिंग और गाइडिंग के नियम को जीवन में उतारने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम का समापन” पेड़ लगाओ जीवन बचाओ” के संदेश के साथ किया गया।इस अवसर पर विद्यालय के समस्त अध्यापक स्वदेश कुमार, सर्वेश कुमार अध्यापिका नीलम श्रीवास्तव,रेनुका श्रीवास्तव , रुचि श्रीवास्तव व हेमलता तिवारी उपस्थित रही।

मोहनलालगंज से मतलूम खान की रिपोर्ट

Comments are closed.