Voice of Nigohan

- Advertisement -

मोहनलालगंज यू पी ए एल फैक्ट्री के कचरे से क्षेत्र के ग्रामीणों में रोष

51

यू पी ए एल फैक्ट्री के कचरे से क्षेत्र के ग्रामीणों में रोष

मोहनलालगंज, लखनऊ । भारत सरकार भले ही स्वच्छ भारत मिशन की बात कर रही हो, पर यू पी ए एल फैक्ट्री केंद्र सरकार के आदेशों की धज्जियां उड़ा रही है चाहे कचरा फैलाना हो चाहे चुनाव के दौरान फैक्ट्री चलाना हो। मोहनलालगंज लखनऊ रायबरेली रोड स्थित यू पी ए एल फैक्ट्री जहां पर सीमेंट की चादर बनाने का कार्य वर्षों से हो रहा है। इससे निकलने वाले कचरे को क्षेत्र में चारों ओर फैलाने से जहां एक ओर गंदगी व्याप्त हो रही है वहीं इससे स्वास्थ्य के ऊपर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। जबकि कई बार इस कचरे मलबे को लेकर भारतीय किसान यूनियन एवं अन्य नागरिकों द्वारा धरना प्रदर्शन कर रोकने का प्रयास किया गया तब बंद हो गया। कुछ समय बाद फिर वही ढाक के तीन पात साबित हो रहा है। फैक्ट्री से निकलने वाले मलबे को फैक्ट्री संचालक यू पी ए एल फैक्ट्री के बगल में कचरा निस्तारण का गड्ढा दिखा कर इतिश्री कर लेता है। जबकि हकीकत यह है क्षेत्र में रोड के किनारे तमाम जगह फैक्ट्री से निकलने वाला कचरा देखा जा सकता है । ज़िम्मेदारों से जब इसकी जानकारी ली गई तो उन्होंने अनभिज्ञता जाहिर की । जहां एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा स्वच्छ भारत मिशन की बात की जा रही है। वहीं पर यू पी ए एल फैक्ट्री के द्वारा फैलाया जा रहा कचरा देखा जा सकता है। जानकारों की माने तो चाहे केंद्र सरकार सांसद का चुनाव हो या राज्य सरकार विधायक का यानी। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा चुनाव तिथियों पर भले ही चुनाव। आयोग द्वारा समस्त फैक्ट्रियों को बंद रखने का निर्देश दिया जाता रहा है ।लेकिन फैक्ट्री का संचालन चुनाव के दिनों में भी होता रहता है,मजदूरों को इसका अतिरिक्त पैसे का लालच देकर मजदूरों से कार्य जारी रखा जाता है अब देखने वाली बात यह है इस कचरे से ग्रामीणों को मुक्ति मिलेगी या बीमारियों की रोकथाम की जायेगी।
मोहनलालगंज से मतलूम खान की रिपोर्ट

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.