Voice of Nigohan

- Advertisement -

गरीब व असहाय और वृद्ध जनों की सेवाभाव निस्वार्थ होनी चाहिए :- पंडित हरीशंकर शर्मा

108

गरीब व असहाय और वृद्ध जनों की सेवाभाव निस्वार्थ होनी चाहिए :- पंडित हरीशंकर शर्मा

मोहनलालगंज। लखनऊ के मोहनलालगंज विकासखण्ड क्षेत्र के भौंदरी ग्रामसभा में मकर संक्रांति के मौके पर कम्बल व साल वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान बागेश्वर विशिष्ट आतिथ्य में जरूरत मंद गरीबों को वस्त्र वितरित करते हुए बागेश्वर ने कहा कि सर्दी की रातें गरीबों के लिए बहुत भारी पड़ती हैं। उन्हे तलाश रहती है उनके दैनिक जीवन में किसी ऐसे मसीहा की जो आकर उनको ठंड से बचा सके। ठिठुरते हुए दिन न गुजारना पड़े। बहुत से गरीब इन सर्दी के दिनों में खुले आसमान के नीचे कांपते रहते हैं। हालांकि ऐसे कई समाजसेवी हैं जो गरीबों की पीड़ा को समझते हुए नेक कार्य के लिए आगे आते हैं और गर्म कपड़े, साल व कम्बल आदि का वितरण कर लोगों को मानव सेवा के लिए प्रेरित करते हैं। भट्ट ब्राह्मण समाज के पंडित हरीशंकर शर्मा व बड़े भाई पंडित कृपा शंकर शर्मा ने संयुक्त रूप से कहा कि गरीबों के लिए सर्दी का मौसम काफी कष्टप्रद रहता है। गर्मी में तो काम चल जाता है, कहीं भी पड़े रहो इतनी दिक्कत नहीं होती। लेकिन सर्दी में उनके लिए भारी मुसीबत होती है। कड़ाके की ठंड में बिना कपड़ों के उनको रातें गुजारनी पड़ती हैं। ठिठुरते हुए वह दिन तो किसी तरह से व्यतीत करते हैं। वही समाजसेवी भौंदरी निवासी पंडित हरीशंकर शर्मा व पंडित कृपा शंकर शर्मा का यह प्रयास बहुत ही सराहनीय कदम है। जहां मरूई, गनियार , रानी खेड़ा, महेश खेड़ा, भौंदरी सहित पूरी ग्रामसभा में हरीशंकर शर्मा के हाथों से 415 गरीब असहायों महिला सहित वृद्धजन गर्म साल व कम्बल पाकर उनकी खुशी का ठिकाना न रहा। ग्रामीणों का कहना है कि भौंदरी ग्रामसभा में पूर्व कनिष्ठ ब्लाकप्रमुख पंडित हरीशंकर शर्मा द्वारा यह कार्यक्रम पुर्वजों से होता आ रहा है। इस स्थिति में गरीब लोग किसी ऐसे मसीहा की राह देखते हैं जो उनको गर्म साल और कंबल आदि का वितरण करे। समाज में कई लोग ऐसे हैं जो गरीबों की पीड़ा को समझते हैं और उनकी मदद के लिए आगे भी आते हैं। उनका यह कार्य समाज को प्रेरणा देने वाला होता है। ऐसी ठंड में कम्बल व साल पाकर वृद्धजनो ने पंडित कृपा शंकर शर्मा व हरीशंकर शर्मा की भूरी भूरी प्रशंसा की । इस मौके पर अनिल त्रिपाठी, पंडित शिवशरण शर्मा , पं सहजराम शर्मा , सुनील शर्मा, हरेराम , विकास शर्मा, दिवाकर शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.