Voice of Nigohan

- Advertisement -

निगोहा – करौंदी गांव में कथा के समापन के साथ भंडारे का आयोजन

33

करौंदी गांव में कथा के समापन के साथ भंडारे का आयोजन

निगोहा । लखनऊ के निगोहा क्षेत्र के कांटा करौंदी गांव की सरजमी में चल रहे सात दिवसीय श्रीमद भागवत कथा का 9 अक्टूबर से शुभारंभ हुआ। भागवत कथा में चार वेद, पुराण, गीता, भागवत पुराण कथा का आयोजन किया गया।
कांटा करौंदी गांव की सर जमी पर चल रहे सात दिवसीय श्रीमद भागवत कथा का कार्यक्रम 9 अक्टूबर से आयोजित किया गया । भागवत कथा में चार वेद, पुराण, गीता एवं श्रीमद् भागवत महापुराण की व्याख्या, प्रभुपाद, हरदोई से आये महाराज जी के मुखारवृंद से उपस्थित भक्तों ने श्रवण किया। कृष्ण जन्म का कार्यक्रम झांकियों के माध्यम से प्रस्तुत किया गया , भागवत कथा के प्रारंभ से ही श्री कृष्ण जन्मोत्सव व भगवान श्री कृष्ण असीम प्रेम के अलावा उनके द्वारा किए गए विभिन्न लीलाओं का वर्णन कर वर्तमान समय में समाज में व्याप्त अत्याचार, अनाचार, कटुता, व्यभिचार को दूर कर सुंदर समाज निर्माण के लिए युवाओं को प्रेरित किया। इस धार्मिक अनुष्ठान का आज सातवां एवं अंतिम दिन है जिसमें विशाल भंडारे का आयोजन किया जाएगा कथावाचक महाराज जी ने बताया कि भगवान श्री कृष्ण के सर्वोपरी लीला श्री रास लीला, मथुरा गमन, दुष्ट कंस राजा के अत्याचार से मुक्ति के लिए सुदामा चरित्र का वर्णन कर भक्तिरस के कार्यक्रम कहानी के माध्यम से आयोजित किए जायेंगे। इस दौरान भजन गायन ने उपस्थित लोगों को ताल एवं धुन पर नृत्य करने के लिए विवश कर दिया। महाराज जी ने सुंदर समाज निर्माण के लिए गीता से कई उपदेश के माध्यम अपने को उस अनुरूप आचरण करने को कहा जो काम प्रेम के माध्यम से संभव है, वह हिंसा से संभव नहीं हो सकता है। समाज में कुछ लोग ही अच्छे कर्मों द्वारा सदैव चिर स्मरणीय होता है, इतिहास इसका साक्षी है। लोगों ने रातभर इस संगीतमयी भागवत कथा का आनंद उठाया। इस सात दिवसीय भागवत कथा में आस-पास गांव के अलावा दूर दराज से काफी संख्या में महिला-पुरूष भक्तों ने इस कथा का आनंद उठाया। सात दिनों तक इस कथा में पुरा वातावरण भक्तिमय रस से सराबोर हो जायेगा। प्रवचन के बाद उपस्थित भक्तों के द्वारा उपस्थित भक्तों के बीच प्रसाद वितरण किया गया। इस कथा के दौरान भागवत प्रेमी जिला पंचायत सदस्य मंशाराम रावत, सुशील यादव ,दीपक यादव, घसीटे लाल आदि हजारों की संख्या में भक्तगण मौजूद रहे।

सर्वेश शुक्ला की रिपोर्ट

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.