Voice of Nigohan

- Advertisement -

लखनऊ – खराब पड़ी मर्करी , बढ़ रही मोहनलालगंज क्षेत्र में वारदातें

45

खराब पड़ी मर्करी , बढ़ रही मोहनलालगंज क्षेत्र में वारदातें

ब्यूरो रिपोर्ट – लखनऊ जनपद के मोहनलालगंज कस्बे में कई मोहल्लों में पथ प्रकाश की व्यवस्था तो की गई है लेकिन अधिकांश स्ट्रीट लाइट खराब पड़ी हैं। अगर कुछ ठीक भी हैं तो उनका कवर टूटा है। कई जगह तो स्विच ही खराब पड़े हैं, इससे लाइट दिन में भी जलती है। मोहनलालगंज में तहसील परिसर की चन्द कदम की दूरी पर लम्बे समय से खराब पड़ी स्ट्रीट लाइट जो रात में जलते ही नहीं हैं। यही हाल अन्य कई जगहों का है। अन्य मोहल्ले में करीब कई स्थानों पर स्ट्रीट लाइट खराब हैं। इन मोहल्लों में कहीं लाइट जलती भी है तो उसका स्विच खराब है। ऐसे में दिन में भी लाइट जलती रहती है। पथ प्रकाश की बेहतर व्यवस्था नहीं होने से कई मोहल्ले में सड़कों पर अंधेरा रहता है। मोहल्ले में दर्जन भर से अधिक घरों तक पहुंचने के लिए अंधेरे में होकर जाना पड़ता है। तमाम स्थानों पर पोल ही नहीं है तो स्ट्रीट लाइट कहां से लगेगी। पथ प्रकाश की व्यवस्था को लेकर प्रशासन गंभीर नहीं है। खराब पड़ी स्ट्रीट लाइट को ठीक कराने में कोई रुचि नहीं ले रहा है। रात के समय बिजली रहने पर भी सड़क से गुजरने पर अंधेरे में होकर जाना पड़ता है। सभी स्थानों पर पथ प्रकाश की बेहतर व्यवस्था की गई है। लेकिन स्ट्रीट लाइट खराब होने पर ठीक नहीं कराया जाता है। लोगों को भले ही बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है। लेकिन तहसील से चन्द कदम की दूरी पर और हाईवे पर खराब पड़ी हैं स्ट्रीट लाइटें सच्चाई बया करती है हाईवे पर लगाई गई स्ट्रीट लाइटें वर्षों से खराब पड़ी हैं। जिम्मेदारों ने इस परियोजना के नाम पर पानी की तरह पैसा बहाया। इसके बाद दुबारा ध्यान देना मुनासिब नहीं समझा मरकरी जलने से हाईवे का नजारा बेहद खूबसूरत लगता था। स्थानीय नागरिकाें का कहना है कि मरकरी लाइट खराब हो जाने के बाद से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है रोड पर अंधेरे में चलने में दिक्कत होती है हर जगहों पर लगी हुई मरकरी लाइट ठीक कराई जाए जिससे मोहनलालगंज के नागरिकों को आने जाने में दिक्कतें न हो कुछ महीने जलने के बाद धीरे-धीरे खराब होने लगती है स्ट्रीट लाइट इसके चलते स्ट्रीट लाइटों का जलना बंद हो गया। स्थानीय लोगोें का कहना है हाईवे को रोशन किया जाए खराब पड़ी सभी लाइटें ठीक की जाए शो पीस बनीं शहर की स्ट्रीट लाइटें, मुख्य मार्गो पर रहता अंधेरा रोड पर राहगीरों को रोशनी दिखाने के नाम पर हर वर्ष करोड़ों रुपये का बिजली बिल फूंक रहा है। फिर भी शहर के गली-मोहल्लों और मेन रोड पर अंधेरा छाया हुआ है। हर वर्ष स्ट्रीट लाइट के मेंटेनेंस पर ही लाखों रुपये खर्च करता है। बावजूद इसके शहर में फिलहाल करीब 40 फीसदी से भी अधिक स्ट्रीट लाइटें बंद ही रहती हैं। अधिकतर खंभों पर लगी लाइट शोभा की वस्तु बनी हुई हैं। ज्यादातर लाइट या तो बंद पड़ी हैं या फिर उससे कम रोशनी निकल रही है। कहीं स्विच खराब हैं, तो कहीं कनेक्शन का तार टूटा व लटका हुआ है, जो शहरवासियों के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है। सड़कों व गली-मोहल्लों में लगी स्ट्रीट लाइट बंद होने पर अंधेरे के कारण आए दिन लोग गड्ढे में गिरकर चोटिल हो रहे हैं। रोड पर लोगों की आवाजाही काफी है। ऐसे में शाम ढलने के बाद स्ट्रीट लाइट नहीं जलने के कारण इन रास्तों पर अंधेरा छा जाता है। ऐसे में वाहन चालकों के अलावा पैदल आने-जाने वालों को भी खासी दिक्कत हो रही है। लाइट लंबे समय से खराब हैं और जो लाइट जल रही हैं, उनकी रोशनी काफी धीमी है। सबसे विकट समस्या यह है कि चोर उठा रहे अंधेरे का फायदा रात के समय गलियों में लगी अधिकतर स्ट्रीट लाइट नहीं जलते हैं, जिससे सड़क पर चलने में काफी समस्या होती है। अंधेरे में चोर उचक्के भी फायदा उठाते हैं और किसी भी वारदात को अंजाम देकर अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो जाते हैं। स्ट्रीट लाइट खराब होने से वारदात का रहता है खतरा सभी वार्डों में जगह-जगह स्ट्रीट लाइट खराब पड़ी हैं। स्ट्रीट लाइट खराब होने से यह समस्या बढ़ जाती है। वहीं रात में चोरी जैसी वारदात होने का खतरा भी ज्यादा रहता है।

मोहनलालगंज से जय शरण तिवारी की रिपोर्ट

Comments are closed.