Voice of Nigohan

- Advertisement -

शो पीस बना जन औषधि केंद्र

महीनों से बंद पड़ा जन औषधि केंद्र मीडिया में खबरे प्रकाशित होने के बाद भी नही चेते जिम्मेदार

13

शो पीस बना जन औषधि केंद्र

महीनों से बंद पड़ा जन औषधि केंद्र मीडिया में खबरे प्रकाशित होने के बाद भी नही चेते जिम्मेदार

मोहन लाल गंज / लखनऊ । सीएचसी आने वाले रोगियों को सस्ती दवाइयां मुहैया कराने के लिए परिसर में खोला गया प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र में काफी दिनों से बंद पड़ा है , और महज शोपीस साबित हो रहा है , जन औषधि केंद्र में ताला बंद के चलते मरीज निजी मेडिकल स्टोरों से महंगी दवाएं खरीदकर अपनी अपनी जेब ढीली करने को मजबूर है , वही तमाम शिकायतों के बावजूद स्वास्थ्य विभाग और केंद्र संचालित कर रही निजी कम्पनी के जिम्मेदार अधिकारी मीडिया में खबरे छपने के बावजूद भी मूकदर्शक बने हुए है ।
मोहन लाल गंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जुलाई माह में प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र का उद्घाटन कर क्षेत्रीय लोगो को चौबीस घंटे सस्ती दवाएं उपलब्ध कराने की सुविधा का दावा किया गया था । और करीब चार छह माह तक जन औषधि केंद्र चला भी जिसकी सराहना वहां पर दवा खरीदने जाने वाले रोगियों ने की भी , लेकिन परिसर में आये लोगो ने बताया कि करीब 3 माह से जन औषधि केंद्र में पूर्ण रूप से ताला बंद है । यहां पर आने वाले रोगी बाहर खुले मेडिकल स्टोरों से महंगी दवा लाने को विवश है । और खोले गए इस केंद्र के माध्यम से रोगियों को सस्ते दाम पर दवाएं उपलब्ध कराने की सरकारी मंशा पूरी तरह से खोखली साबित हो रही है । आंकड़े गवाह है कि सीएचसी की ओपीडी में अमूमन प्रतिदिन 700 से 800 रोगी इलाज कराने आते है , इसके अलावा चौबीस घण्टे चलने वाली इमरजेंसी हर रोज काफी तादात में इमरजेंसी केसेज आते रहते है । लेकिन जन औषधि केंद्र में तालाबंदी के चलते निजी मेडिकल स्टोरों पर जाकर यहां आने वाले रोगियों को मोटी रकम खर्च करनी पड़ रही है , इतना ही नही जब इस सम्बंध में सीएचसी के आधीक्षक डॉ ० मिलिंद वर्धन से करीब 25 दिन पूर्व मीडिया कर्मियों ने बात की थी तो उन्होंने जवाब दिया था कि जो कार्यदायी संथा इसे चलाती थी वो उनसे आकर मिली थी और इस केंद्र को पुनः चालू करने की बात भी की थी , और इसमें उन्होंने अपना सहयोग करने की बात कही थी और ये भी बताया था कि अमूमन 15 दिनों में जन औषधि केंद्र चालू हो जाएगा लेकिन ऐसा संभव हो नही पाया और अब करीब महीना बीत रहा है लेकिन प्रधानमंत्री सहज जन औषधि केंद्र खुल नही सका है और उसमें ताला लटक रहा है ।
वही जर्जर कमरे में केंद्र संचालित था और उसकी मरमत भी अधूरी है , वही केंद्र चला रही निजी कम्पनी द्वारा जिस कमरे में ये केंद्र संचालित था उसकी मरम्मत भी करवाई गई थी क्योंकि जरा सी भी बरसात होने पर उसकी छत से पानी टपकने लगता था भला ऐसी सूरत में दवाओं को सुरक्षित रख पाना मुमकिन नही था , और ऐसी सूरत में दवाओं के खराब होने की प्रबल आशंका थी , वही मरम्मत का कार्य आज भी अधूरा पड़ा है , और अब तो बरसात का समय भी चल है और जमकर बरसात भी शुरू हो चुकी है , भला ऐसी सूरत में क्या जन औषधि केंद्र शुरू हो सकेगा ये बात आने वाला वक्त तय कर देगा । वही सीएचसी में दवा लेने आने रोगियों ने कहा कि केंद्र और राज्य दोनों जगहों पर भाजपा की सरकार होने के बावजूद भी ये आलम है कि प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्रों में तालाबंदी है और मोहनलालगंज से सांसद भी भाजपा से है फिर भी क्षेत्र से आने वाले रोगियों को जन औषधि केंद्र में मिलने वाली सस्ती दवाओं का लाभ नही मिल पा रहा है , और क्षेत्रीय जनता व सीएचसी में आने वाले रोगियों को जन औषधि केंद्र में तालाबंदी के चलते निजी मेडिकल स्टोरों से महंगी दवा खरीदने को मजबूर है ।

सूरज अवस्थी की रिपोर्ट

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.