Voice of Nigohan

- Advertisement -

सोहरामऊ / उन्नाव – इकलौते बेटे की हत्या के बाद न्याय की आस में दर दर की ठोकरे खा रहा बुजुर्ग पिता , नही मिला न्याय

मुकदमा दर्ज होने के बावजूद भी पीड़ित को धमकाकर पुलिस बना रही पीड़ित पर ही सुलह का दबाव , आरोपी खुलेआम घूम रहे है , अब तक नही हो सकी आरोपियों की गिरफ्तारी

44

इकलौते बेटे की हत्या के बाद न्याय की आस में दर दर की ठोकरे खा रहा बुजुर्ग पिता , नहीं  मिला न्याय

मुकदमा दर्ज होने के बावजूद भी पीड़ित को धमकाकर पुलिस बना रही पीड़ित पर ही सुलह का दबाव , आरोपी खुलेआम घूम रहे है , अब तक नही हो सकी आरोपियों की गिरफ्तारी

उन्नाव / ब्यूरो । प्राप्त जानकारी के मुताबिक पूरा मामला सोहरामऊ थाना जिला उन्नाव के अंतर्गत लगने वाले गाँव आशा खेड़ा के मजरे मिश्रा पुर गांव का है ।
बताते चले की किसान रघुबीर प्रसाद पुत्र स्व० धनाइ के इकलौते पुत्र संजय की हत्या 18.5.2019 को की गयी थी , जो नामजद अभियुक्तों द्वारा की गयी थी । पहले सोहरामऊ पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने से मना कर दिया , फिर पीड़ित पक्ष ने पुलिस अधीक्षक उन्नाव से न्याय की गुहार लगाई तब जाकर मुकदमा पंजीकृत हुआ , एक माह बीत जाने के बाद भी सोहरामऊ  की पुलिस अभियुक्तों को गिरफ्तार तक नही कर सकी है । दबंग पीड़ित को धमकी दे रहे है कि सुलह कर लो अन्यथा अंजाम सही नही होगा । वही पुलिस भी दबंगो का साथ दे रही है , पीड़ित न्याय की आस में दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर है ।

वही मृतक संजय के पिता रघुबीर ने बताया की बीती 18 मई दिन शनिवार को मेरे पुत्र संजय की ससुराल पक्ष के प्रेमचंद्र ससुर , साला, सास व पत्नी ने मिलकर हत्या कर दी थी । जिसकी सूचना सोहरामऊ थाने में दी गई थी । लेकिन सोहरामऊ पुलिस ने मुकदमा लिखने से इंकार कर दिया था , उल्टा पीड़ित पर ही सुलह का दबाव बना रही थी । लेकिन जब पीड़ित ने उन्नाव एसपी से इस बात की शिकायत की तो एस.पी. की फटकार के बाद सोहरामऊ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था । जिसे दर्ज हुए लगभग 1 माह बीत चुका है । बावजूद उसके भी अभी तक कोई कार्यवाही पुलिस ने नहीं की जिससे आरोपियों के हौसले बुलंद हैं । और पुलिस कि सह पर आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं। आरोपी व सोहरामऊ पुलिस लगातार पीड़ित पर सुलह होने का दबाव बना रही है । सुलह न होने पर उल्टे पीड़ित को फंसाने की धमकी दी जा रही है । जिसकी शिकायत पीड़ित ने मुख्यमंत्री से पोस्ट के द्वारा की है, लेकिन पीड़ित को अब तक न्याय न मिल पाने के कारण पीड़ित व उसके परिवारीजन सांसत में है । और पीड़ित को पुलिस द्वारा बार बार पूछताछ के नाम पर थाने बुलाया जाता है , लेकिन वहां पर पीड़ित व उसके परिजनों पर पुलिस द्वारा सुलह करने का जबरन दबाव बनाये जाने व उसे धमकाये जाने से पीड़ित अब थाने जाने के नाम से भी घबरा जाता है । वही दूसरी ओर पीड़ित के इकलौते जवान बेटे की मौत हो जाने से पीड़ित व उसका परिवार गहरे सदमे में है , ऊपर से पुलिस और विपक्षी भी उसे धमका रहे है । यदि पीड़ित को न्याय नही मिला तो लोगो का भरोसा कानून से उठ जाएगा । जबकि प्रदेश की योगी सरकार अपराधियो के विरुद्ध काफी सख्त है । वही पीड़ित बुजुर्ग पिता अपने ही बेटे के कातिलों को सजा दिलाने की आस में दर बदर की ठोकरे खाने को विवश है , जिससे ग्रामीणों व पीड़ित के परिजन पुलिस की इस कार्यप्रणाली से खासे परेशान है । और आरोपियों को गिरफ्तार करने के बजाय सोहरामऊ पुलिस पीड़ित को ही प्रताड़ित कर रही है । जिसके चलते पूरे गांव के ग्रामीणों में व पीड़ित के परिजनों में पुलिस की कार्यशैली चर्चा का पर्याय बनी हुई है , और पीड़ित बुजुर्ग हाथ मे प्रार्थना पत्र पकड़े न्याय की आस में स्थानीय जनप्रीतिनिधियो व अधिकारियों की डयोढ़ी पर पहुच दर दर की ठोकरे खाने को विवश है ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.