Voice of Nigohan

- Advertisement -

मोहनलालगंज – कृषि रक्षा इकाई में लगा सरकारी इंडिया मार्का नल बना शोपीस 

नल से निकल रहा गन्दा बदबूदार पानी , दूर दराज से बीज व अन्य कृषि का सामान लेने आने वाले किसान दूषित व गन्दा जंगयुक्त पानी पीने के लिए मजबूर , शिकायत के बाद भी नही हो रही सुनवाई 

41

कृषि रक्षा इकाई मोहन लाल गंज में लगा सरकारी इंडिया मार्का नल बना शोपीस 

नल से निकल रहा गन्दा बदबूदार पानी , दूर दराज से बीज व अन्य कृषि का सामान लेने आने वाले किसान दूषित व गन्दा जंगयुक्त पानी पीने के लिए मजबूर , शिकायत के बाद भी नही हो रही सुनवाई 

मोहन लाल गंज , लखनऊ । प्रचंड गर्मी व चिलचिलाती धूप में कृषि रक्षा इकाई मोहन लाल गंज में बीज व दवा और किसान सम्मान निधि योजना की जानकारी लेने पहुच रहे सैकड़ो किसान प्यास के मारे सुख रहे गले व हलक और अपनी प्यास बुझाने के लिए वहां पर लगे सरकारी नल का डंडिल जैसे ही पकड़कर चलाते है तो नल से गन्दा , दूषित , बदबुदार जंग मिश्रित पानी निकलने लगता है , जिसे कोई भी किसान व अन्य आदमी पीने की हिम्मत नही जुटा पा रहा है , जिससे वहां पर आने जाने वाले ग्रामीणों व किसानों में खाशा रोष ब्याप्त है , और वहां पर आने वाले किसान प्यास बुझाने के लिए बाहर दुकानों में बिक रहा पानी अपनी अपनी जेब ढीली कर पीने को विवश है ।
धान की नर्सरी करने का समय चल रहा है , और किसानों के खेतों में हरी सब्जी की फसल भी खड़ी है , जिनमे लग रहे रोगों के निवारण की जानकारी और सही दवा व उसकी मात्रा कितनी और कैसे व कब डाले सम्बंधित जानकारी लेने किसान कृषि रक्षा इकाई मोहन लाल गंज पहुच कर व वहां पर उपस्थित अधिकारियों से मिलकर अपनी अपनी फसलो के बचाव सम्बंधित जानकारी वहां पर उपस्थित अधिकारियों से लेने जाते है । लेकिन जब उन्हें प्यास लगती है तो उसके अंदर लगे सरकारी नल को जैसे ही चलाते है , उनकी हिम्मत टूट जाती है , और किसान बदबूदार गन्दा पानी पीने की हिम्मत नही जुटा पाते है वहा पर जाने वाले सैकड़ो किसानों के अब तक कृषि रक्षा इकाई में उपस्थित कर्मचारियों व अधिकारियों से की और कहा साहब इस नल को सही करवा दो ताकि दूर दराज गांवो से आने वाले हम जैसे दर्जनों किसान इस प्रचंड गर्मी में कृषि कार्य की जानकारी अर्जित करने आते है , और प्यास बुझाने के लिए अपनी अपनी जेब ढीली कर पानी पीने को विवश है , तो उहा पर उपस्थित कर्मचारी किसानों को ये बात बताकर शांत करा देते है कि एडीओ , ऐ , जी(,कृषि ) प्रेम बाबू से कहा है इसको दुरुत करवाने के लिए और उन्होंने नल को जल्द सही करवाने का आस्वाशन भी दिया है , लेकिन किसानों ने कहा कि साहब पिछले महीने आये थे तब भी नल से दूषित पानी निकल रहा था और आज फिर आया हु तब भी हालत वही है । तो उन्होंने कहा कि एडीओ ऐ जी , प्रेम बाबू ने वीडियो साहब से कहा था लेकिन नल की मरम्मत अब तक नही हो पाई है , हालांकि वीडियो साहब ने नल को समय से दुरुत करा देने का आस्वाशन भी प्रेम बाबू को दिया था , इससे अधिक हमे खुद नही पता । किसानों ने जिम्मेवारो के ऊपर उदासीनता का आरोप लगाते हुए कहा कि साहब लोग तो वतानुकिलित आफिस और बंगलो में रहते है , और मिनिरल वाटर पीते है , तो भला उनका ध्यान इस खराब हैंड पम्प जो पानी नही जहर उगला रहा है इसकी ओर भला क्यों जाएगा , इसे तो हम जैसे किसान पीने के लिए मजबूर है साहब तो साहब है भाई , और किसानों ने ये भी बात बताई की अब तहसील समाधान दिवस शुरू हो चुके है , वही इस बात की शिकायत करनी पड़ेगी , या फिर मुखयमंती जी के पोर्टल अन्यथा ये नल की मरम्मत नही हो पाएगी और हम लोग नल लगे होने के बावजूद कहा तक खरीद खरीद कर पानी पियेंगे , और कब तक अधिकारियों व कर्मचारियों के आगे गिड़गिड़ाते रहेंगे । जब इस विषय मे सक्षम सभी अधिकारियों को जानकारी है तो फिर महीनों से गन्दा, बदबूदार , जंगयुक्त दूषित उगल रहे पानी की समस्या को सही कराने का समय अब तक सचिव से लेकर जिम्मेदार अधिकारियों को नही मिल पा रहा है , और यहां आने जाने वाली ग्रामीण जनता व रोज दर्जनों की संख्या में आने वाले किसान नल से निकल रहे दूषित , बदबूदार पानी पीने को विवश है ।

क्या कहते है किसानों से एडीओ ऐ. जी. प्रेम बाबू

इस विषय मे जब किसानों ने कृषि रक्षा इकाई में तैनात ए डीओ, ए जी , के पद पर तैनात प्रेम बाबू के पूछा तो उन्हीने किसानों को बताया कि इस बारे में हमने वीडियो साहब से शिकायत की है , और उन्होंने इस नल को सही कराने का आस्वाशन भी दिया था लेकिन बीच मे चुनाव के चलते नल की मरम्मत का कार्य नही हो सका लेकिन अब बहुत जल्द ही इस समस्या का निदान हो सकेगा क्योकि समन्धित अधिकारियों के संज्ञान में ये मामला है , और जल्द ही सचिव से कहकर इस मामले का निस्तारण करा दिया जाएगा ।।

सूरज अवस्थी , मोहन लाल गंज 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.