Voice of Nigohan

- Advertisement -

मोहनलालगंज सिसेण्डी पीएचसी पर तैनात महिला डॉक्टर ने आशा बहुओं से की बदसलूकी और अस्पताल परिसर के अंदर काटा जमकर हंगामा

(अधीक्षक के आने के बाद मामला हुआ शांत मंजिला डॉक्टर की बदसलूकी से परेशान पूरा स्टॉप )

6

सिसेण्डी पीएचसी पर तैनात महिला डॉक्टर ने आशा बहुओं से की बदसलूकी और अस्पताल परिसर के अंदर काटा जमकर हंगामा

(अधीक्षक के आने के बाद मामला हुआ शांत मंजिला डॉक्टर की बदसलूकी से परेशान पूरा स्टॉप )

मोहनलालगंज / लखनऊ । जहा एक तरफ लोग डॉक्टर को भगवान का दर्जा देते नही थकते , वही दूसरी ओर सिसेंडी पीएचसी में तैनात महिला डॉक्टर अपेक्षा सिंह इन दिनों पीएचसी में चर्चा का पर्याय बनी हुई है , और पीएचसी , में आने जाने वाले मरीजो से लेकर आशा बहुओं व एनम से लेकर अन्य स्टॉप के साथ शिस्ट ब्यवहार तो दूर की बात बल्कि अपशब्दों में बात करती है । ये आरोप पीएचसी में कार्यरत आशा बहुओं ने डॉक्टर साहिबा के ऊपर लगाया है , बुधवार के दिन आशाओं व महिला डॉक्टर के बीच जमकर हंगामा हो गया , और नौबत गाली गलौज से लेकर हाथापाई तक बन आयी , और पीएचसी में करीब 10 वर्षो से भी लंबे समय से कार्यरत आशा अनीता सैनी , व कौशल्या ने बताया कि मैडम आज सुबह से ही काफी गुस्से में थी , और पीएचसी में कार्यरत आशाओं से लेकर स्टाप के अन्य कर्मचारियों से शिस्ट ब्यवहार करना तो दूर की बात बल्कि सभी से अपशब्दों में बात कर रही थी , जिसका विरोध जब वहां के स्टाप व मरीजो ने किया तो डॉक्टर साहिबा का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुच गया और उन्होंने सभी को जमकर अपशब्दों के साथ खरी खोटी सुनाई और सभी को देखलेने की धमकी तक दे डाली , और इतना ही नही पीएचसी में कार्यरत आशा कौशल्या को बाल पकड़कर पिटाई भी कर दी , जिससे झुब्ध होकर कौशल्या ने डायल 100 पुलिस को सूचना देकर बुलाया , लेकिन मौके पर पहुची पुलिस ने डॉक्टर साहिबा का पक्ष लेते हुए उक्त प्रकरण पर पर्दा डालने लगी , वही दूसरी ओर डॉक्टर की इस अभद्रता से आहत हो पीएचसी में तैनात करीब आधा दर्जन आशाएं इकट्ठा हो गयी और महिला डॉक्टर पर कार्यवाही की मांग करने लगी , और पीएचसी में हंगामे की सूचना किसी आशा ने मोहन लाल गंज सीयचसी के अधीक्षक डॉक्टर मिलिंद वर्धन से की , हंगामे की सूचना पाकर मौके पर पहुचे अधीक्षक ने पहले मामले को समझा और फिर स्टाप से पूरे प्रकरण की जानकारी ली तो सच्चाई उजागर हो गयी और मामले को रफा दफा करने का प्रयास उन्होंने किया और आशा पर की गयी बदसुलूकी को लेकर उन्होंने महिला डॉक्टर के इस गैर जिम्मेदाराना ब्यवहार पर कड़ी आपत्ति जताई और महिला डॉक्टर को जमकर खरी खोटी सुनाई और आशाओं को पूरा आस्वाशन दिया कि उनके साथ न्याय होगा तब जाकर गुस्साई आशाएं शांत हुई और मौके पर पहुची पुलिस भी मामले की लीपापोती कर वापस लौट गयी ,वही दूसरी तरफ स्टाप के अन्य कर्मचारी भी आशाओं के पक्ष में आ गए और पीएचसी में तैनात महिला डॉक्टर अपेक्षा सिंह को वहां से हटाने की मांग अधीक्षक के समक्ष रखी , और अधीक्षक मिलिंद वर्धन ने समस्त स्टॉप को सभी से शिष्ट ब्यवहार करने की बात कही और गैर जिम्मेदार महिला डॉक्टर को वहां से हटाने का आस्वाशन दिया और वापस सीयचसी मोहन लाल गंज चले आये । जब इस विषय मे अधीक्षक मिलिंद वर्धन से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उक्त प्रकरण की जानकारी को सीएमओ को अवगत करा दिया गया है और ऐसी गैर जिम्मेदाराना डॉक्टर को वहां से हटाने की शिकायत भी कर दी है । और उन्होंने उसे वहां से जल्द हटाने की बात कही है ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.