Voice of Nigohan

- Advertisement -

चुनाव के पश्चात विजली विभाग पुराने ढर्रे पर (वॉइस आफ निगोहा)

6

चुनाव के पश्चात विजली विभाग पुराने ढर्रे पर  

रिपोर्टर- सूरज अवस्थी
ब्यूरो – मोहन लाल गंज/  लखनऊ । मोहन लाल गंज लोकसभा सीट पर चुनाव समाप्त होने के पश्चात ग्रामीण क्षेत्रो की विधुत ब्यवस्था फिर पुराने ढर्रे पर आ गयी है , बैशाख माह की पकुशन व उमस भरी गर्मी में लू के थपेड़ों के बीच बिजली की आंख मिचौली ग्रामीणों के लिए मुसीबत का सबब बनी हुई है , जिससे ग्रामीण विधुत उपभोक्ताओं में भारी रोष पनप रहा है । जहां एक ओर सरकार ग्रामीण इलाकों में कम से कम 16 घण्टे बिजली देने की बड़ी बड़ी बाते चुनावी मंचो से ग्रामीण जनता से करते नही थक रही है वही ग्रामीण क्षेत्रो में रहने वाले ग्रामीण विधुत उपभोक्ताओं ने बताया कि बामुश्किल 10 या फिर 12 घण्टे विधुत आपूर्ति बामुश्किल मिल पा रही है । हालांकि अब ग्रामीण क्षेत्रो में भी केबल लग चुके है , बावजूद उसके भी बिधुत कर्मियों को फाल्ट ढूंढे नही मिलता है । और चिपचिपी गर्मी में ग्रामीणों को पूरी पूरी रात बिजली न आने के चलते जाग कर गुजारने को मजबूर है । वही सिसेंडी फीडर से जुड़े कई गांवो में विधुत उपभक्ताओ ने बताया कि बिजली की आंखमिचौली के चलते ग्रामीण बुजुर्गों व छोटे छोटे बच्चों का दिन तो कट जाता है , लेकिन रात काटना कड़ी चुनौती साबित हो रहा है । वही जबरौली गांव के ग्रामीण विधुत उपभोक्ताओं ने बताया कि बुधवार को शाम करीब 3 बजे के आसपास अचानक हाइ वोल्टेज आ जाने से ग्रामीणों के एलईडी , बल्ब फ्यूज हो गए , और मोबाइल चार्जर फूक गए गनीमत रही कि ग्रामीण विधुत उपभोक्ताओं ने अपने अपने घरों की बिजली मेन स्विच से काट दी , नही तो और नुकसान हो जाता । उसके बात कुछ ग्रामीणों ने क्षेत्रीय लाइनमैन को इस बात की जानकारी दी , ग्रामीणों विधुत उपभोक्ताओं की शिकायत पर लाइन मैन चला तो आया लेकिन फाल्ट दुरुस्त नही कर सका और वापस चला गया , फिर पूरी रात ग्रामीण फोन करते रहे लेकिन जिम्मेवारो ने ग्रामीणों का फोन तक उठाना मुनासिब नही समझा , और ग्रामीण बुजुर्गों व बच्चों को पूरी रात चिपचिपी उमस भरी गर्मी में गुजारनी पड़ी , और सुबह करीब 11 बजे के बाद विधुत आपूर्ति पुनः बहाल हो पाई । और करीब दिन के 2 बजे से पुनः फिर लाइट डिम हो गयी उसके बाद फिर ग्रामीणों ने क्षेत्रीय लाइनमैन से फोन कर शिकायत की तब 4 बजे फिर बिधुत सप्लाई पुनः बहाल हो सकी ।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.