Voice of Nigohan

- Advertisement -

मोहनलालगंज / निगोहा जवाहर खेड़ा से नंदौली मार्ग की सड़क बदहाल,  ग्रामीणों में रोष

राजधानी के क्षेत्र में आने के बावजूद भी नहीं दे रहे ध्यान

22

जवाहर खेड़ा से नंदौली मार्ग की सड़क बदहाल, ग्रामीणों में रोष

निगोहा / लखनऊ- लखनऊ के निगोहा क्षेत्र की ग्राम सभा बघौना में आने वाला खड़ंजा जो नंदौली और जवाहर खेड़ा मार्ग को जोड़ता है इस बदहाल खड़ंजा की दूरी नेशनल हाईवे- 30 से महज 2 किलोमीटर की दूरी पर है, जो जवाहर खेड़ा से नंदौली मार्ग लगभग 800 मीटर खड़ंजा पूरी तरीके से बदहाल हो गया है लोगों का इस पर चलना दूभर हो गया है ,सड़क पर बिछाया गया ईटा भी उखड़ चुका हैं यह पूरा मार्ग गड्ढे में तब्दील हो चुका है । कहीं-कहीं पर जो इंटे बचे हैं वह नुकीले हो गए हैं इससे आए दिन वाहन चालक घायल हो रहे हैं ग्रामीणों का आरोप है कि लगभग 20 वर्ष पहले बने इस खड़ंजा का एक बार भी पेचवर्क नहीं हुआ, जिससे ग्रामीण लंबे समय से रोड बनाने की मांग कर रहे हैं लेकिन नेता , मंत्री , प्रतिनिधि केवल आश्वासन देकर टाल रहे हैं । ग्रामीणों ने बताया कि लंबे समय से खड़ंजा जर्जर है नुकीले ईटों से निकलना मुश्किल हो गया है शाम ढलते ही कोई वाहन चालक इस बदहाल रास्ते से गुजरना नहीं चाहता, जो चालक गलती से इस रास्ते से निकलते हैं उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है खड़ंजा पर बचे लगे नुकीले ईटों से वाहन पंक्चर भी हो जाते हैं। जिन्हें सुधारने के लिए दुकानें भी नहीं मिलती शाम के समय मदद के लिए कोई नहीं होता बारिश के समय तो यह खड़ंजा जान का जोखिम बन जाता है जहां बारिश के समय पानी खड़ंजा पर घुटनों तक कीचड़ रहता है वाहनों के मदघाटो में कीचड़ घुसकर पहियों को जाम कर देता है इसके बाद गाड़ियों को धक्का लगा ने की नौबत आती है लेकिन धक्के से गाड़ियां हिलती तक नहीं है, लोडिंग वाहन तो इधर जाने के लिए 3 गुना रुपया वसूलते हैं इस मार्ग से एक दर्जन से भी अधिक गांव नंदौली, रामदास पुर, बिशुनपुर , जमुरिया, कांटा, करौंदी, अमावा ,दोस्तपुर, मीरकनगर ,भैरमपुर , कासिमपुर, लालता खेड़ा सहित अन्य गांव के लगभग 50, 000 ग्रामीण प्रभावित हैं l
राजधानी के क्षेत्र में आने के बावजूद भी नहीं दे रहे ध्यान
ग्रामीणों ने कहा कि राजधानी के क्षेत्र में आने के बावजूद भी कोई जनप्रतिनिधि व मंत्री हमारी समस्याओं को नहीं सुनता परेशानियों को जानने की कोशिश भी नहीं करता सारी स्थित सामने होने के बावजूद भी अनदेखा कर देते हैं जिम्मेवार ग्रामसभा बघौना में आने वाले इस खड़ंजा का जब प्रधान वीरेंद्र शर्मा से हवाला लिया गया तो उन्होंने बताया कि इसकी शिकायत लिखित व मौखिक ब्लॉक प्रमुख , जिला पंचायत सदस्य , विधायक व सांसद से भी किया लेकिन यह बदहाल खड़ंजा 800 मीटर का कोई निवारण नहीं हो पाया है और जनप्रतिनिधियों की उदासीनता का खामियाजा ग्रामीण जनता को आये दिन चोटिल होकर चुकाना पड़ रहा है ।।
पंडित उमेश शर्मा निगोहा 

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.