Voice of Nigohan

- Advertisement -

भाजपा ने अमित शाह को दिया एक्सटेंशन -भारत माता और कमल रहेगा मूल मंत्र

5 63

मोदी को फिर से पीएम बनाने के लिए भाजपा ने अमित शाह को दिया एक्सटेंशन, भारत माता और कमल रहेगा मूलमंत्र

नई दिल्ली। दिल्ली में बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो रही है और बैठक में साल के आखिर में होने वाले मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनावों के साथ-साथ 2019 के लोकसभा चुनावों को लेकर भी चर्चा हो रही है। इसके अलावा बैठक में एससी/एसटी एक्ट के चलते सवर्णों का विरोध और एनआरसी का मुद्दा भी होगा। जब चुनावों की बात होगी तो सवाल ये भी है की पार्टी किसके नेतृत्व में 2019 के लोकसभा चुनाव में जाएगी। मौजूदा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का कार्यकाल जनवरी 2019 में समाप्त हो रहा है। ऐसे में क्या कोई नया चेहरा पार्टी का नेतृत्व करेगा। ऐसा नहीं होगा। अमित शाह ही फिलहाल 2019 के लोकसभा चुनाव तक पार्टी के अध्यक्ष बने रहेंगे। खबर है कि संगठन चुनाव को लोकसभा इलेक्शन के बाद कराए जाने के प्रस्ताव पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में मुहर लग गई है। 2019 के लोकसभा चुनावों के मार्च-अप्रैल में होने की संभावना है और ऐसे में बीजेपी नई टीम के साथ चुनाव में उतरने का जोखिम नहीं उठाना चाहती। इसलिए पार्टी ने मौजूदा टीम को ही बनाए रखने का फैसला लिया है।

शनिवार सुबह बीजेपी की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी परिषद की शुरुआत दिल्ली में हुई। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के चलते पिछले दिनों ये बैठक टल गई थी। बैठक का उद्घाटन करते हुए अमित शाह ने कहा कि पार्टा 2019 में स्पष्ट बहुमत के साथ जीत हासिल करेंगी और सीटों का आंकड़ा 2014 से ज्यादा होगा।

5 Comments
  1. Marco says

    Hi, very nice website, cheers!
    ——————————————————
    Need cheap and reliable hosting? Our shared plans start at $10 for an year and VPS plans for $6/Mo.
    ——————————————————
    Check here: https://www.good-webhosting.com/

  2. comprar levitra says

    Pero hay un porcentaje más pequeño que no lograrán reanudar su vida sexual con normalidad.

  3. buy cialis says

    The reasons for the shift of changing from other medications to Cialis are numerous.

  4. viagra de farmacia says

    Estas son las ciencias y cimientos de todos los estudios que abarcan la sexología. Los problemas relacionados con la impotencia requieren la intervención del médico quien, a través de una serie de formularios y pruebas, deberá descartar la presencia de alguna enfermedad psicológica o física que pudiera producir el problema.

  5. comprar cialis online says

    Los hombres que no responden a ninguno de estos tratamientos de DE pueden decidir tener varillas semirigidas implantadas quirúrgicamente en el pene. Los medicamentos orales (a veces llamados “píldoras de erección”) son el tratamiento más común para la DE y generalmente son efectivos.

Leave A Reply

Your email address will not be published.