Voice of Nigohan

- Advertisement -

वाराणसी में नया बन रहा फ्लाईओवर गिरने से मची अफरा तफरी

फ्लाईओवर के गिरने से लगभग 18 लोग मरे लगभग बीस लोगो के घायल होने की आशंका

148

वाराणसी हादसा: पीएम मोदी ने जताया दुख, योगी ने किया 5-5 लाख मुआवजे का ऐलान, 1 घंटे देरी से पहुंची मदद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी हादसे पर दुख जताया. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं प्रार्थना करता हूं कि घायल लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं.

वाराणसी:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी हादसे पर दुख जताया. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं प्रार्थना करता हूं कि जख्मी लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं. अधिकारियों से बात की और उन्हें निर्देश दिया है कि वहां जल्द जल्द से जरूरी मदद पहुंचाएं. सीएम योगी ने भी वाराणसी में निर्माणाधीन पुल गिरने की घटना पर दुख जताया है और उन्होंने जिला प्रशासन को तेजी से बचाव कार्य करते हुए लोगों की हर संभव मदद करने के निर्देश दिए हैं. सीएम योगी ने ट्वीट किया कि उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कुछ ही देर में वाराणसी पहुंच जाएंगे.

सीएम योगी ने इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 5-5 लाख मुआवजे का ऐलान किया है. साथ ही गंभीर रूप से घायलों के लिए 2-2 लाख रुपए मुआवजे का ऐलान किया है. सीएम योगी के अनुसार NDRF की पांच टीमें वाराणसी के लिए भेजी गई है.

सीएम योगी ने वाराणसी हादसे की जांच के लए तीन सदस्यीय टीम का गठन किया है. साथ  ही 48 घंटे के भीतर जांच रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए गए हैं.

वाराणसी हादसे को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘वाराणसी में फ्लाईओवर निर्माण के स्थल पर हुई दुर्घटना के बारे में जानकर आघात पहुंचा है. प्रशासन द्वारा  बचाव कार्य और घायलों की सहायता के सभी प्रयास किये जा रहे है. शोकाकुल परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं.

कैंट रेलवे स्टेशन के पास एक अंडर कंस्ट्रक्शन फ्लाईओवर का एक हिस्सा गिर गया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक हादसे में 12 लोगों की मौत हुई है, जबकि दर्जनों लोग घायल हुए हैं. मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है.

कुछ गाड़ियां भी मलबे के नीचे दब गई हैं. मलबे में दबे लोगों को बचाने का काम जारी है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे पर दुख जताया है. बता दें वाराणसी पीएम मोदी का संसदीय क्षेत्र है. पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में घटिया निर्माण के चलते इतना बड़ा हादसा होना गंभीर सवाल खड़े करता है.
एक चश्मदीद ने बताया कि मैं फ्लाईओवर से करीब 50 मीटर की दूरी पर खड़ा था. मैंने देखा कि पुल के नीचे चार कार, एक ऑटो रिक्शा उन्होंने कहा कि मौके पर रेस्क्यू टीम पहुुंचकर मदद करने में जुुटे।

Comments are closed.